50+Shivaji maharaj Jayanti quotes hindi-2021छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती कोट्स इन हिंदी/shivaji maharaj quotes status shayari in hindi

 Shivaji Jayanti quotes hindi 2021: Chhatrapati Shivaji maharaj Jayanti will be celebrated with great enthusiasm all over the country on 19th February 2021. For spreading love and respect for you can share with your friends and family on Facebook and WhatsApp. We hope you enjoy the collection of great shivaji maharaj thoughts in hindi, shivaji quotes in hindi, shivaji status in hindi, shiv jayanti status in hindi.

Known as the founder of the Marathi Empire and an ideal ruler, Chhatrapati Shivaji Raje Bhosale is tolerant king. Using the method of guerrilla poetry adapted in the hills and valleys of Maharashtra to fight the enemy, he fought against the then Adilshahi of Bijapur, the Nizamshahi of Ahmednagar and the mighty Mughal Empire, and sowed the seeds of the Marathi Empire.


Shivaji Maharaj Jayanti 2021 status in hindi


shivaji maharaj photo
shivaji maharaj photo



जब आप उत्साही होते हैं,
तो पहाड़ भी मिट्टी के ढेर जैसा दिखता है। -
छत्रपति शिवाजी महाराज



प्रतिशोध मनुष्य को जलाती रहती है,

संयम ही प्रतिशोध को काबू करने का उपाय होता है।”

शिवाजी महाराज अमर रहें.




यहां तक ​​कि अगर सभी के हाथों में एक तलवार थी, तो वह इच्छाशक्ति है जो सरकार स्थापित करती है। - छत्रपति शिवाजी महाराज




जय भवानी जय शिवाजी।

सर्वप्रथम राष्ट्र,

फिर गुरु,

फिर माता-पिता,

फिर परमेश्वर अतः

पहले खुद को नहीं राष्ट्र

को देखना चाहिए।

छत्रपति शिवाज महाराज.





नारी के सभी अधिकारों में,

सबसे महान अधिकार

माँ बनने का है.

छत्रपति (शिवाजी महाराज)





बिना रुके हर कठिनाई में कदम बढ़ाना,

आसान नहीं है, मातृभूमि पर शीश चढ़ाना.

शिवाजी महाराज जयंती की शुभकामनाएं



एक साहसी और बहादुर आदमी भी विद्वान और बुद्धिमान के सम्मान में झुकता है। क्योंकि साहस भी ज्ञान और ज्ञान से आता है। - छत्रपति शिवाजी महाराज.


Shivaji maharaj Quotes hindi/शिवजी महाराज कोट्स हिंदी



shivaji maharaj jayanti
shivaji maharaj jayanti


आपके दृढ़ विश्वास,

दृढ़ संकल्प और जुनून से दुश्मनों के सबसे मजबूत को हराया जा सकता है।

छत्रपति शिवाजी महाराज.



एक पुरुषार्थी भी, एक

विद्वान के सामने झुकता

है। क्योंकि पुरुषार्थी भी

विद्या से ही आती है।

-छत्रपति शिवाजी महाराज





लक्ष्य की और बढाये

गए छोटे छोटे कदम

बाद मे विशाल लक्ष्य

भी हासिल करा देता

है ।




एक छोटा कदम छोटे लक्ष्य पर,

बाद मे विशाल लक्ष्य भी

हासिल करा देता है।





बदला लेने की भावना मनुष्य

को जलाती रहती है संयम

ही प्रतिशोध को काबू करने

का एक मात्र उपाय है।

छत्रपति शिवाजी महाराज



जब आपके हौसले बुलंद हो जाते हैं

तो पहाड़ जैसी विपत्ति

और संघर्ष भी मिट्टी के ढेर की तरह लगता है।”

शिवाजी महाराज को शत-शत नमन.




प्रतिशोध मनुष्य को जलाती रहती है,

संयम ही प्रतिशोध को काबू करने का उपाय होता है।”

शिवाजी महाराज अमर रहें.




यहां तक ​​कि अगर सभी के हाथों में एक तलवार थी, तो वह इच्छाशक्ति है जो सरकार स्थापित करती है। - छत्रपति शिवाजी महाराज


Shivaji maharaj shayari in hindi/शिवाजी महाराज शायरी हिंदी


famous dialogues of chhatrapati shivaji
famous dialogues of chhatrapati shivaji


स्वतंत्रता एक वरदान है,

जिसे पाने का अधिकारी हर कोई है।”

शिवाजी महाराज को शत-शत नमन



स्वतंत्रता एक वरदान है,

जिसे प्राप्त करने का अधिकार सभी को है।

छत्रपति शिवाजी महाराज




शौर्यवान योद्धा

वीरों के वीर छत्रपति

शिवाजी महाराज की जयंती पर

कोटि-कोटि नमन।




आत्मबल, सामर्थ्य देता है;

और सामर्थ्य,

विद्या प्रदान करती है।

विद्या, स्थिरता प्रदान करती है,

और स्थिरता,

विजय की तरफ ले जाती है।


Shivaji maharaj thoughts in hindi


motivational shivaji maharaj quotes in hindi
motivational shivaji maharaj quotes in marathi



अपनी गलती से सीखने की जरूरत नहीं है।

म दूसरों की गलतियों से बहुत कुछ सीख सकते हैं। -

छत्रपति शिवाजी महाराज.



दुश्मन को कमजोर न समझें,

लेकिन उनकी ताकत को भी नजरअंदाज न करें।




एक पुरुषार्थी भी, एक तेजस्वी विद्वान के सामने झुकता है। क्योंकि पुरुर्षाथ भी विद्या से ही आती है।”

शिवाजी महाराज को शत-शत नमन




राष्ट्र प्रथम। फिर अपने गुरु,

अपने माता-पिता और अंत 

में अपने भगवान! तो,

राष्ट्र को हमेशा खुद से पहले आना चाहिए।

- छत्रपति शिवाजी महाराज.




आत्मविश्वास शक्ति प्रदान करता है और पावर ज्ञान प्रदान करता है। ज्ञान स्थिरता प्रदान करता है और स्थिरता जीत की ओर ले जाती है। - छत्रपति शिवाजी महाराज




वो दौलत ही क्या मिलेगी

बादशाह के खजानेमे

जो मैंने पाई हे छत्रपती के

सामने सर झुकाने मे!!




महाराष्ट्र मराठा राजा,

कह रहा है सब मेरे अपने,

आज भी, गाना बजाने

वाले गाते हैं,




लपेट लो

वह एकमात्र "राजा शिव

छत्रपति" हैं।





पाण्यात जे गेल्यावर मणरशी,

जंगलात गे ल्यावर वाघाशी

आणि महाराष्ट्रात आल्यावर

शिवशक्तांशी कधीच भिडू नका.




जब लक्ष्य जीत की हो,

तो हासिल करने के लिए

कितना भी परिश्रम,

कोई भी मूल्य, क्यो न हो

उसे चुकाना ही पडता है।"

-छत्रपति शिवाजी महाराज.





अगर हौसले बुलन्द हो, तो

पर्वत भी एक मिट्टी का ढेर

सा लगता है।

छत्रपति शिवाजी महाराज



Shivaji maharaj vichar /शिवजी महाराज विचार 

लक्ष्य की और बढाये गए

छोटे छोटे कदम बाद में

विशाल लक्ष्य भी हासिल

करा देता है ।




दुनिया में हर एक व्यक्ति को स्वतंत्र

रहने का पूरा अधिकार है और उस

अधिकार को पाने के लिए वह

किसी से भी लड़ सकता है

छत्रपति शिवा जी महाराज।





आपका शत्रु भले ही

कितना भी बलवान क्यों

ना हो उसे मजबूत

इरादों और बुलंद हौसले

से पराजित किया जा

सकता है।



स्त्री को सभी अधिकार मिलना

चाहिए और उनके सभी

अधिकारों में, सबसे महान

अधिकार माँ बनने का है।

छत्रपति शिवाजी महाराज




देश के गौरव को अक्षुण्ण रखने के

लिए आजीवन युद्धरत रहने वाले

माँ भारती के अनमोल रत्न, महान योद्धा को

जयंती पर कोटि-कोटि नमन

स्वतंत्रता एक वरदान है,

जिसे पाने का अधिकारी हर कोई है।

छत्रपति शिवाजी महाराज




अपना सर कभी भी

नहीं झुकाना चाहिए.

उसे हमेशा ऊँचा ही

रखना चाहिए।

छत्रपति शिवाजी महाराज




समोर संकट

दिसले ना त्या

संकटाच्या

डोक्यावर पाय ठेवून

उभं रहायचे आणि

फक्त

झुंजायचं आणि

विजय मिळत नाही

तोपर्यंत

माघार घ्यायची नाही..




जरुरी नही कि विपत्ति का सामना,

दुश्मन के सम्मुख से ही करने मे,

वीरता हो। वीरता तो विजय मे है।"

- छत्रपति शिवाजी महाराज





अगर मनुष्य के पास आत्मबल

हो, तो वो समस्त विश्व पर विजय

पताका लहरा सकता है 

छत्रपति शिवाजी महाराज।





किसी भी चीज को

पाने का हौसला बुलंद हो

तो पर्वत को भी मिट्टी में

बदला जा सकता है.




ओम" कहने से मन को

शक्ति मिलती है,

"साईं" कहने से मन को

शक्ति मिलती है,

"राम" बोलने से पापों से

मुक्ति मिलती है,

जयँ शिवराय" की बात

हमें सौ बाघों की ताकत

मिलती है .





जब तुम्हारे हौसले

बुलंद होंगे तो पहाड़

जैसी मुसीबतें और

संघर्ष भी मिट्टी के ढेर

के समान ही प्रतीत होगा।




अगर मनुष्य के पास आत्मबल है,

तो वो समस्त संसार पर अपने हौसले

से विजय पताका लहरा सकता है।




कभी भी अपना सर गत

झुकाओ हमेशा उसे ऊँचा

रखो

छत्रपति शिवाजी महाराज




जरूरी नही कि विपत्ति का सामना,

दुशमन के मममुख से ही करने मे,

वीरता हो। वीरता तो विजय मे है।

शत्रु चाहे कितना ही

बलवान क्यो न हो, उसे

अपने इरादों और उत्साह

मात्र से भी परास्त किया

जा सकता है।







किसी भी लक्ष्य को पाने के

लिए नियोजन महत्वपूर्ण

होता है। केवल नियोजन से

ही आप लक्ष्य पा सकते हैं।

-छत्रपति शिवाजी महाराज




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां