60+osho quotes in hindi/ओशो कोट्स इन हिंदी विथ इमेजेज/भगवान पर ओशो के विचार 2021

If you are big fan of osho then do read these beautiful quotes said by famous spiritualist osho rajnish.


We collected some of famous oshos quotes, thoughts in hindi language to bring value in your life.


We have collected,osho quotes in hindi

osho quotes in hindi on love,osho quotes in hindi with pictures,ओशो कोट्स इन हिंदी विथ इमेजेज,,osho quotes in hindi pdf download

osho quotes in hindi on life,osho quotes in hindi on god.


osho quotes in hindi
osho quotes in hindi

Osho quotes in hindi/ओशो कोट्स हिंदी



 समझौता करना कायरता है। सत्य

कभी समझौता नहीं करता।




एक कदम सनता की ओर

अपने भीतर मैं को खोजोगे तो पाओगे की

मैं का होना सबसे बडा झूठ है।

ओशो




प्रेम की नाव बनाओ

यही नाव है- एक मात्र नाव,

जो उस पार ले जा सकती है।





परमात्मा को पियो,

फिर कोई और शराब

पीने जैसी नहीं रह जाएगी।





काम का अर्थ है... मेरा सुख मेरे बाहर है।

ध्यान का अर्थ है... मेरा सुख मेरे अंदर है।





जिस चीज को तुम

भुलाना चाहोगे उसकी याद और आएगी

क्योकि

भुलाने में भी तो याद आती है।





सच्चा इंसान न तो नास्तिक होता है।

न ही आस्तिक होता है। वो तो

केवल वास्तविक होता है।




मै अधिक से अधिक एक द्वार हो सकता हूँ,

मुझसे होकर गुजर जाओ मुझसे बंधो मत,

यात्रा का आरम्भ मेरे साथ होता है, इसका

अंत मुझ पर नही होता...




जीवन बंद मुट्ठी नहीं खुला हाथ है।

जीवन में कोई रहस्य है ही नहीं।

 या तुम कह सकते हो कि जीवन...



सारी शिक्षा व्यर्थ है,

सारे उपदेश व्यर्थ हैं,

अगर वो तुम्हें अपने

भीतर डूबने की कला

नहीं सिखाते।"






आदमी जिससे बचना चाहते है उसी से टकरा जाता है।

आदमी जिससे भागता है उसी से धिर जाता है।

आचार्य रजनीश




मेंरे किरदार से वाकिफ होने की

कोशिश भत कर...

मुझे समझने में दिल लगेग और तुम

दिमाग वाले हो...!




लौग कहते है प्रेम अंधा होता है पर में

कहता हूं के प्रेम ही है जिसके पास

आंखे है बाकी सब अंशा है।




चिंता करने का अर्थ हे,

अस्तित्व से भी अपने को

समझदार समझना

कार्बन कॉपी कुरूप होती है।

इसलिए दूसरे जैसा बनने

की कोशिश मत करो।





प्रेमी व्यक्ति

हमेशा तुम्हें पागल दिखेगा

क्योंकि तुम मन से देखते हो

और वह हृदय से देखता है।




महापुरुष मुक्त हो जाता

है, और हम अजीब पागल

लोग हैं, हम उसी मुक्त

महापुरुष से बंध जाते हैं!




जो मिल रहा हैं तुम्हें,

वही तुम्हारे लिए बेहतर हैं..

ये तुम नहीं जानते पर देने वाला

बखूबी जानता हैं...





सत्य के मार्ग पर मिट जाना भी

असत्य के मार्ग पर जीने से लाख गुना बहेतर है.





अर्थ मनुष्य द्वारा बनाये गए हैं और क्युकी आप

लगातार अर्थ जानने में लगे रहते हैं इसलिए आप

अर्थहीन महसूस करने लगते हैं..




किसी के जैसा बनने की कोशिस न करे

क्योंकि पहले से ही आप अनमोल है।

आप में सुधार की कोई ज़रूरत नहीं है।

आपको इसे जानने के लिए अनुभव के लिये

अपने पास आना होगा...




प्रेम से बढ़कर कोई चुनौती जहीं हैं।

दूसरे व्यक्ति के साथ प्रसन्नता पूर्वक रहना

दुनिया में बड़ी से बड़ी चुनौती है..




जीवन एक सवाल नहीं - एक चुनॉती हैं।

एक अभियान है जीवन एक रह्य हैं,

जिसे जी कर जाना भी जा सकता है..




जहां तक मेश प्रश्न हैं मेंने कभी भी कुछ आयोजित

नहीं किया बस जिया हूं एक विस्मय के साथ कि

मालूम नहीं आगे क्या होने वाला है..




मैं व्यक्तिगत समस्याएं हल नहीं करता

मैं तो व्यक्ति को मिठाने का उपाय बताता हूं,

जिससे सारी रामस्याएं पैढा होती हैं..




आत्मज्ञान एक समझ हैं कि यही सबकुछ हैं

यही बिलकुल सही है बस मही है आत्मज्ञान

कोई उप्लाब्धि नही हैं यह ये जानना है कि ना

कुछ पाना है और ना कहीं जाना हैं.





जीवन में जो भी सत्यं है, सुन्दर है,

उसे कहना सदा ही कठिन है।

और प्रेम से ज्यादा

न तो कुछ और सत्य ही है,

न सुन्दर ही।





मौन की भी अपनी भाषा है।

और सारी भाषाओं से ज्यादा समर्थ।




ये दुनियां बहुत ही खूबसूरत है

क्योंकि इसे ईश्वर ने बनाया है,

जो इस दुनियां को गन्दा कहता है,

वह ईश्वर का तिरस्कार कर रहा है।






हर छोटा बदलाव

एक बड़ी कामयाबी

का हिस्सा होता है।




जो मिल जाता है वही व्यर्थ हो जाता है।

तुमने जिस स्त्री को चाहा मिल गई

तुमने जिस पुरुष को चाहा मिल गया

बस तत्क्षण तुम किसी और चाह में लग गए

"ओशो"




कोई अगर बुद्ध के पैरों में घुंघरू बांध दे

और नाचने को कहे और

ऐसे ही मीरा को

एक जगह बैठकर ध्यान करने को कहे

तो नहीं हो पाएगा।

इसलिए जिसका जो स्वभाव है

वह उसी मार्ग पर चलें अन्यथा नहीं

-ओशो





स्त्रियां पति को ही परमेश्वर मानती है,

पर मीरा बड़ी विचित्र थी जिसने

परमेश्वर को ही पति मान लिया...

-ओशो





जहाँ कुछ खोने का नही…

बल्कि खो जाने का मन करे

वही प्रेम हैं!!

ओशो



अब डूबने का क्या खौफ़

जब नांव भी तेरी

दरिया भी तेरा लहरें भी तेरी

और हम भी तेरे

-ओशो



जगत में एक ही पाप है।

इस बात का बोध की मैं कुछ हूं

और एक ही पुण्य है।

इस बात का अनुभव की में

कुछ भी नही हूं।

ओशो




जब में आपको यह बताता हूँ।

कि आप देवी देवता है तो मैरा

मतलब यह होता है कि आप में

बहुत सी क्षमता है। और आपकी

संभावनाएं भी बहुत ज्यादा होती हैं।



फूल की तरह हो जाओ

पानी में रहो और पानी तुम्हें छुए मत…




मैं शब्दों के बीच का मौन हूँ

दुबारा मत पूछना मैं कौन हूँ




वृक्षों को देखो, पक्षियों को देखो, बादलों को देखो तारों को

देखो और अगर तुम्हारी आंखें हैं तो तुम देख सकोगे कि

पूरा अस्तित्व आनंदमय है सब कुछ बस आंनदित है।



हम सदा कारण से प्रसन्न होते हैं।

अकारण प्रसन्नता का नाम मस्ती है




आप बाहरी रूप को बदलते हुए कई जिंदगियां लगा

देंगे फिर भी कभी संतुष्ट नहीं हो पायेंगे जबतक कि

भीतर बदलाव नहीं होगा बाहर कभी भी परफेक्ट

नहीं हो सकता है.




"मैने लिख दी हर वो बात जो मेरे जहन में थी अब

उसे पढ़ कर कौन कहां पहुंचता हैं वह उसकी अपनि जीम्मेदारी हैं।




न शिकायत किसी से

न किसी से अनबन है।

बस अब ज़िंदगी में थोड़ा

अकेले चलने का मन है...



यदि तुम बैठ सको कुछ न करते हुवे

तो यही ध्यान का परम सत्य है...





तुम मुझे हरा न सकोगे, 

क्योंकि मैं जीतना ही नही चाहता!

- Osho Rajneesh




ध्यान की जब तक

वर्षा न हो जाए,

भीतर की अग्नि बुझती नहीं।

जब तक ध्यान की रसधार न बहे,

तब तक भीतर कुछ अंगारे - सा

जलता ही रहता है।

चुभता ही रहता है..




मन की शांति खुद से मिलती है,

भटकने वाले तो  अजीब प्राणी होते है...



अधरों की खामोशी

शब्दों के मौन

आंखों की सरगोशी

तुम बीन समझे कौन?




जब वो सांसें तक नहीं तुम्हारी

जो तुम्हारे अंदर चल रही है ..

तो फिर क्यूं तुम इन बाहर के

आडम्बरों को अपना मान बैठे हो।




जो मानता है वो जानता नही

जो जानता है वो मानता नही

दिल जिस से जिंदा है।

वो तमन्ना तुम्हीं तो हो।।

आबाद रूह जिससे 

वो अरमां तुम्ही तो हो।




सूरज कहूँ या चांद कहूँ आसमां कहूँ।

जिसपर मुझे है नाज, वो जलवा तुम्ही तो हो।।




गुरु न मिले तो एक ही बात समझना,

कि शिष्य होना अभी संभव नहीं हुआ।

जिसके आप योग्य हो जाते है,

वह तत्क्षण मिल जाता है।




खौलती स्याही जो है,

उसे बदलना नहीं है,

स्वीकार करना है।

जो हैं,

सब परमात्मा का है।




वासना से मुक्त होने का एक ही उपाय है:

उसे जान लो।

जिसे हम जान लेते हैं,

उसीसे मुक्ति हो जाती हैं।




प्रेम हारता ही नुहीं। जब तक परमात्मा

न मिल जाए, प्रेम हार ही नहीं सकता।

प्रेम बीज है परमात्मा का।




मैं तुम्हारे जहर

पी लुंगा। तुम मेरा एक जहर

पी लो "ध्यान"|

अगर उसमे ताकत होगी

तो वह तुम्हें नया मनुष्य बना देगा।




जाया ना कर अपने अल्फाज़, हर किसी के लिए।

बस खामोश रह कर देख, तुझे समझता कौन है।।

मूर्ख लोग हमेंशा दूसरों पर हँसते हैं,

और बुद्धिमान लोग अपने आप पर.....






ओशो कहते हैं:-

"प्रशंसा चाहोगे तो निंदा मिलेगी!

प्रशंसा की चाह छोड़ दो तो कोई निंदा भी करे

फिर कोई फर्क नहीं पड़ेगा."




जो व्यक्ति जीवन को समझ लेता है।

वो मृत्यु से डरता नहीं बल्कि

उसका स्वागत करता है।



औरत खुद एक बहुत बड़ी ताकत है।

इतनी बड़ी कि "मर्द' पैदा करती है।






जब तक दूसरों की मृत्यु में,

तुम अपनी मृत्यु न देख सको!

समझना तुम्हारी समझ बहुत कच्ची है!!




जनाब. सुख सुबह जेसा है..

मांगने पर नहीं मिलता..

 जागने पर मिलता है...



Note:-we hope you have liked quotes we have collected on osho rajnish, we also collected,ओशो कोट्स हिंदी में,ओशो कोट्स न रिलेशनशिप्स,स्त्री पर ओशो के विचार,ओशो शायरी इन हिंदी,जीवन पर ओशो के विचार,ओशो हिंदी प्रवचन

ओशो के विवादित विचार,ओशो के धार्मिक विचार.



Note:-if you have liked these quotes,images of osho then do share it with your friends and family on whatsapp and Facebook.



Note:-if you have some of best osho quotes in hindi then do share it with us,we would love to make it part of our this article.




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ