Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

सर्च करिए

70+Mood Off Shayari Status In Hindi/मूड ऑफ शायरी इन हिंदी/मूड ऑफ कोट्स(2021)


 मूड ऑफ शायरियां हिंदी/Mood Off Shayari In Hindi (2021)


Read most wanted mood of status shayari quotes in hindi language with beautiful images in hd quality to share it with your friends and family with your loved once in hindi english and hinglish also.


upset mood off,whatsapp dp mood off images girl,mood off dp for boy,girl sad mood off,status mood offf,ace mood off,alone mood off status in hindi,mood off dp for girl.


मूड ऑफ स्टेटस हिंदी/Mood Off Status In Hindi (2021)


किसिकी याद आई है

या फिर किसिको देख लिया है,

गिली आँखे बता रही है

ये मोहब्बतमें वफ़ा का सिला है





प्यार हो किसी एक इंसान से उसके बिना जीन

कसम महादेव की मौत का ज़हर पीने जैसा है

"और मानो जैसे जीते जी मरने जैसा है"!!!





मुझे मजबूर ना करो,

कुछ लिखने को

अपना मतलबी चेहरा,

तुम देख नहीं पाओगे





Jab tumhe apne ego me hi rhna hai

toh mai bhi khud ke sath hi rhna

pasand krungi...

Ab kuchh bola n to bina abusing

words use kiye itna teekha bolungi ki

sidha tumhare dil pr chot krega...




हम दोनों ही धोखा खा गए

हमने तुम्हें औरों से अलग समझा,

और तुमने हमें

औरों जैसा ही समझ लिया!!





क्या बात है,

बड़े चुप चाप से बैठे हो,

कोई बात दिल पे लगी है, या

फिर किसी से दिल

लगा बैठे हो।।




मोहब्बत तो दिल से की जाती है।

फिर मासूम आँखे क्यु,

अश्को की सज़ा पाती है.....

कुसुर इनका ही तो शायद होता है,

दिल तो अक्सर इन्ही के रास्ते खोता है।





हंसता तो रोज हूं,

मगर खुश हुए ज़माना हो गया !!

पराए तो पराए अपने भी बेगाने हो गए.







हंसता तो रोज हूं,

मगर खुश हुए ज़माना हो गया !!

पराए तो पराए अपने भी बेगाने हो गए.




उतर गये वो शक्स आंखो से

जिन्हे पलकों में बिठा कर रखते थे

चंद पैसों का घमंड

और पीठ पीछे छूरी घोपने की

साजिश रचा करते थे।





खयाल रखाकर तेरे जेहेन के जान का,

घोल के हवा संग ये मोहरा सौपे न किताब तुझे यादों का।





सोच रही थी मैं,

की सबसे दूरी बना लु,

वो क्या है ना,

मुझे अपनापन कही महसूस नहीं हो रहा....!




एक घुटन सी होती है दिल में

जब कोई दिल में तो रहता है

पर साथ नही.





आज-कल का प्यार

गुलामी करो, तो प्यार

न करो, तो खत्म प्यार

चूक हुई, तो अगला तैयार

कोई समझाए मुझको

ये प्यार है या जिस्म का व्यापार।






Koi Cheez

Apko Acha Bana Deta Hai

Jisse Aap Laalich Bhi Keh Sekhte Ho

- B'utt Sha'Hid





कभी कभी ऐसा होता है न,

कि हमे कोई नहीं समझ पाता

यकीनन, हम

सही होते है पर हमे गलत

समझ लिया जाता है।





एक समय था

जब उन्होने सुनसान सफ़र को

भी खूबसूरत बनाया था

आज उन्होने मंजिल को

मौत बना दिया...





Dil ruth sa rha h

Sab kuch chhut sa rha h

Kaise roku is tufaan ko m

Ab

Sabar ka bandh tut sa rha h






ख्वाईश हूँ मैं किसी की इतना सोच के ही खुश थी

मैं

पर वहाँ भी मैं बस आजमाइश ही निकली





मेरे सवाल इतने है कि शायद खुद

के पास कोई जवाब नहीं है।





आपके सवालों का जबाब ढूढता हूं,..

आप मेरी हो जाओ ऐसा ख्वाब देखता हूं...




ये जो सब कुछ हो रहा है

अगर इसे ही जिंदगी कहते है

तो वाहक्यी में मौत पसंद करंगा...।।






बहुत रोका खुद को अब रोको मत

अब इज़हार करने की सोचो भी मत

कर दिए तूने दिल के टुकड़े हज़ार

अब फिर से जोड़ने की सोचो भी मत।





जब दर्द से मोहब्बत हो

इलाज की जरूरत हो

दिमाग इसमे क्या ही करे

जब दिल मे ऐसी आफ़त हो।





ना शिकायत किसी से,ना किसी से अनबन है।

जिन्दगी में अब बस अकेले चलने का मन हैं।





सब छोड़ कर चले जाते हैं,

हम अकेले थे, अकेले हैं,

और अकेला ही रह जाते हैं....




कभी ना कभी तो अकेला रहना सीखना

पड़ेगा,

तो क्यों ना उसकी शुरुआत अभी से ही करे....




वजह तो पता नहीं मुझे,

मगर आज मेरी आँखों से ज्यादा

मेरा दिल रो रहा है....!






Kitna bhi koshish

Karlo khush rehne ki Magar .......

Koi na koi kuch keh

Kar MOOD OFF kar Hi deta hai




बेवफ़ाई ने मोहब्बत को

दर्द में बदल दिया ओर

बेवफ़ा ने अफ़वाह उड़ा दी कि

मोहब्बत हमेशा हार जाती है...





कैसा प्यार है वो मेरा

जो उसको नहीं भूल पा रही हूं

जितना भूलने की कोशिश कर रही हूं

उतना ही बीमार पड़ रही हूं।






Jiske ek mulakaat ka..

Intezaar hai..

Kambakht ye ishq or ye daastaan unse hi

dur rhne ko bolta haii

Kriti kumari pradhan।





मेरी मौत पर तुम वक़्त पर पहुंच जाना

उस मुलाकात में, मैं तेरा इंतजार नहीं करूँगा।




आज मन बड़ा उदास है

लगता है कोई हमे आज

बड़ी शिद्दत से याद कर रहा है।।





मैं वो बात नहीं हूँ जो तुम भूल जाओ,

लम्हों का वो इतिहास हूँ मैं, जो

तुम्हें हर पल याद आउंगा ।।





बहुत दर्द होता है जब कोई आपसे बहुत

ज्यादा प्यार करें और फिर वो बिना कुछ कहे

आपसे दूर चला जाये।






टूटकर रह जाते है लिखने वाले भी

आक्सर,

पूछे कोई हाल ए दिल बयाँ यूँ ख़ुदपर लेकर,







गुस्से में कभी गलत मत बोलो

क्योंकि मूड

तो ठीक हो ही जाता है

पर बोली हुई बातें वापस नहीं आती.अच्छे इंसान की तलाश मत करो

खुद अच्छे बन जाओ, शायद किसी

की तलाश पूरी हो जाए....






बाहर आंधी है तूफान है

पर न जाने क्यों मन सुनसान है

कुछ तो वजह होगी इसकी

या फिर खुशी

पल-भर की मेहमान है।







कितने सित्तम झेलने पड़ते है

कितनी रुस्वाइया सहनी पड़ती है

एक तुमको शायर करने की खातिर

खुद को नफ़रत ए अलम की आग मे जलाना पड़ता हैं।।




मजबूरियाँ ला खड़ा करती है ऐसे मोड़ पर,

इंसान बुराईयाँ अपना लेता है अच्छाईयाँ छोडकर...!




खो गयी हु में आजकल

ख्वाबों के पिंजरे में,

लगता है बदल सी. गयी हुँ

या रास्ता भटक गयी हु





में किसी के सहारे की उम्मीद नही रखता

बहोती ने छोड़ दिया मुझे अकेले ही चलना है इस सफर में।





सारा झगड़ा ख़वाहिशों का है

ना गम चाहिए, ना कम चाहिए !!






तू यही है इसका मुझे एहसास है

पास होकर भी दूर का ये ढोंग कैसा

तूने ऐसा क्यों किया ये समझ से बहार है

अगर थोड़ी भी इंसानियत हो तो मुकमल होना।






वक्त का क्या भरोसा कुछ सही होगा भी या नहीं,

परेशान तो हम इसलिए हैं ये सोचकर कि ये मेरे अपने हैं





तुम कहते हो प्यार तो था ,

पर अब नहीं हैं ....!

और मैं कहती हूँ,

अगर अब नहीं हैं ...

तो वो प्यार था ही नहीं !





जिन्दगी के भी अजीब नियम है

दुःख में उसी से मिलने का मन करता है

जीस तक हम पहुच भी नही सकते ।।






हर किसी से न पड़े effect but कुछ कुछ

चीज़ों से पड़ता है

ये mood है पागल जो दिल के चक्कर मे पड़

के हर बार खिसकता रहता है"





"माना अभी ज़िंदा हूँ, तो वक़्त तुम गुज़ार लो....

मरने के बाद तो, मुझसे बात करने को भी तरसोगे!"




तू खास है,मेरे पास है

फिर भी दिल उदास है

क्या तुझे इस बात का एहसास है!!




जिन जज्बातों को हम बयां न कर पाए

ये सोचकर की वो परेशान हो जाएंगे,

वही धोखेबाज आज हमें सता रहे हैं।





हम याद कर रहे हैं उन्हें

उनको हमारी फिक्र कहाँ हैं

मोहब्बत तो हमने ही कि थी दिल से

उसने तो बस दिल्लगी की थी।








जिन्दगी गुजर रही है इम्तिहानों के दौर से

एक जख्म भरता नही और दूसरा आने की

जिद्द करता है...





अनजानी, अनचाही राह पर चल रही हूँ

किसी और से क्या शिकवे करूँ

मैं तो खुद ही खुद से रोज़ लड़ रही हूँ।






तुम्हे मालूम नही,तुम अपनी औकात दिखा रही हो,

खुद बदतमीज़ होकर,मुझे तमीज़ सीखा रही हो।

रिश्ते बचाने के लिए तोड़ा हो जिसने उसूलों की कैद,

आज रिश्तों की कद्र करना तुम उन्हें सीखा रही हो।







मैंने जो कहा मैं उसका जिम्मेवार हूँ,

ना कि उसका,जो तुमने समझा मुझे।

औक़ात बढ़ाओ अपनी मुझे समझने के लिए,

वरना तैयार हूँ मैं भी तुझसे निपटने के लिए।

दोस्तों के लिए जान देता हूँ और बदतमीजी का जवाब,

बांध ना पाओगी मुझे इन लब्जों में क्योंकि मैं हूँ दिल का नवाब।

तमीज़ न हो तो हमसे दूरी बनाए रखना,

गलती से भी मुझे कमेंट बॉक्स वाले टट्टु ना समझना।

लिखने का शौक़ है इसलिए आ जाता हूँ,

वरना किसी लेखक का दीवाना नही।






गुलामी की फिदरत है तो दिखाव अपनी वफादारी,लेकिन

ख्याल रहे ज़िन्दगी के किसी मोड़ पर मुझसे उलझना नही।

समझने वाले ने पढ़ा होगा तो समझ लिया होगा 😗😙😚😡😠और बाकी सभी मज़े में रहे और लिखते रहे🤗🤗






हम नाराज़ नहीं होते तुमसे पर हर बार करि

हई गलती रिश्तो को खत्म कर दिया करती हे

और हम नाराज़गी बदश्ति कर सकते हे पर

टूटे हुए रिश्ते नहीं।





अब मैं किसी से भी दिल ना

लगाऊंगा जरुरत से ज्यादा।

अगर किसी की याद भी आए,

तो गुजरे सिर्फ रात आधा।

बची हुई आधी रात में समंभालेंगे खुद को

और करेंगे खुद से ही वादा कि

उपरवाले को ही चाहेंगे सबसे ज्यादा।






आज तेरी याद में पूरे दिन रो ली

खाना खाएं बिना ही रह गई

पूछा सबने क्या हुआ तुझे आज

मन ठीक नहीं का बहाना कर के बैठ गई।





बैठा किन्नी दूर मैं होक मजबूर

रब्बा तेरी किद्दा दी सजावां

इक सुन ले आवाज़

इक पूरी कर दे मेरी आस

इक मन्न जा अरदास।







कुछ तो है जो पहले जैसा नही हूँ मैं,

महादेव जाने ,आँखे खुल गई या अंधकार में ही हूँ|





आज ना जाने कितने महीनो बाद खेलने बैठे

PUB-G,

तो पता चला कि उनकी यादें भी निकले FERJI.

खेलते-खेलते कब भुल गए उन्हे,

पता ही ना चला हमें।

हम जल्दी गुस्सा होते नहीं,

और जब होते हैं तो रोते नहीं,

सामने वाले को रुलाते हैं।






तेरे इंतज़ार में मेरी आंखे भी थक गई है

अब तो कर ले बात मेरी जान

मेरी सहने की शक्ति भी खत्म हो गई है।






आज मन हुआ है दुनियां से रिस्ता तोड़ जाऊँ

इस दुनिया मे लौटकर फिर कभी ना आऊँ

अपना अपना कहने वाले दिल तोड़ देते है

ये हाथ पकड़ने वाले दामन छोड़ देते हैं।





खुशियों को भी ठुकरा सकते हैं हम

अब अपने गमों में भी मुस्कुरा सकते है हम.!





आज मन हुआ है दुनिया से रिस्ता तोड़ जाऊँ

इस दुनिया मे लौटकर फिर कभी ना आऊँ

अपना अपना कहने वाले दिल तोड़ देते है 

  ये  हाथ पकड़ने वाले दामन छोड़ देते हैं। 





बयां कर नहीं सकते अब लफ्जों से

दील में दर्द की कतार है

एक दर्द ख़त्म नही होता

दूसरा तैयार है...।



mood off dp,sad mood off shayari,mood off shayari girl,मूड ऑफ कोट्स,मूड ऑफ स्टेटस डाउनलोड,मूड ऑफ इमेजेज,Mood off shayari in English,Mood off Shayari boy,मूड ऑफ स्टेटस इन हिंदी,Mood Off Shayari in Hindi।